सीरिया में अमेरीका ने दागी मिसाइलें रूस ने जताया विरोध किसी बड़े युद्ध की आशंका

0
105
American attack on Seriya
American attack on Seriya
Download Our Android App Online Hindi News

पहले से सिविल वॉर की आग में झुलस रहे सीरिया में अमेरीकी गठबंघन सेना के मिसाइल हमले शुरू हो गए हैं. सीरिया में पिछले दिनो हुए केमिकल अटैक के जवाब में अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने मिसाइल हमले का आदेश दिया है. सीरिया के खिलाफ इस बड़ी सैन्य कार्रवाई में अमेरिका के पुराने साथी फ्रांस और ब्रिटेन भी शामिल हैं. वहीं, अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस के संयुक्त हमले के बाद सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद ने ट्वीट किया, ”अच्छी आत्माओं को दबाया नहीं जा सकता है.”

सीरिया में हमला करने की अमेरिकी राष्ट्रपति के आदेश के बाद दमिश्क के पास धमाके की तेज़ आवाजे सुनी गई है. अमेरिकी आधिकारियों ने बताया कि सीरिया के खिलाफ इस कार्रवाई में लड़ाकू विमानों और जलपोतों का इस्तेमाल किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि इस हमले में कई तरह के बमों का भी इस्तेमाल किया जा रहा है. फ्रांस के रक्षा मंत्री ने कहा कि सीरिया में अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन की संयुक्त सैन्य कार्रवाई से पहले रूस को आगाह किया गया था.

नाटो ने भी सीरिया पर अमेरिकी हमले का समर्थन किया है. वहीं, रूस ने अमेरिका के मिसाइलों को मार गिराने की चेतावनी दी है. अमेरिका में रूसी राजदूत ने सीरिया पर अमेरिकी नेतृत्व में हमला करने के परिणाम भुगतने की चेतावनी दी है. हमले के कुछ देर बाद रूसी रक्षा मंत्रालय ने कहा कि अमेरिका और उसके सहयोगियों की ओर से दागी गई मिसाइलें सीरिया में रूसी एयर डिफेंस जोन में प्रवेश नहीं की हैं.

ट्रंप ने कहा कि सीरिया में दूसरी बार केमिकल हथियारों का इस्तेमाल किया गया. ब्रिटेन ने कहा कि सीरिया में हमला करने के अलावा कोई विकल्प ही नहीं बचा था. राष्ट्र को संबोधन में ट्रंप ने कहा कि कुछ समय पहले मैंने अमेरिकी सुरक्षा बलों को सीरियाई तानाशाह बशर अल असद से जुड़े केमिकल हथियारों को निशाना बनाकर हमला करने का आदेश दिया था.

पिछले हफ्ते सीरिया के डूमा में केमिकल हमला हुआ था, जिसकी चपेट में बच्चों और महिलाओं समेत करीब 500 लोग आए थे. इसकी दुनिया भर में कड़ी निंदा हुई थी. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने इस केमिकल हमले का आरोप रूस, ईरान और सीरिया के राष्ट्रपति बशर अल-असद पर लगाया था. उन्होंने सीरियाई राष्ट्रपति के समर्थन करने पर रूस और ईरान को भी चेतावनी दी है.

एक अमेरिकी अधिकारी ने बताया कि अब सीरिया के खिलाफ अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन का संयुक्त सैन्य ऑपरेशन जारी है. हम इसके लिए फ्रांस और ब्रिटेन का शुक्रिया अदा करते हैं. उन्होंने कहा कि सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद के केमिकल हथियारों के ठिकानों को निशाना बनाया जा रहा है.

ज्वाइंट चीफ्स चेयरमैन जनरल जोसेफ डुनफोर्ड ने कहा कि सीरियाई सरकार के ऐसे ठिकानों को निशाना बनाया जा रहा है, जिससे रूसी सुरक्षा बलों के साथ टकराव का जोखिम कम रहे. अमेरिकी रक्षा मंत्री जेम्स मैटिस ने कहा कि सीरियाई सरकार ने पिछली बार केमिकल हमले के बाद की चेतावनी से सीखा नहीं, जिसके चलते इस बार उसके खिलाफ कड़ा कदम उठाया गया. फिलहाल अमेरिकी हमले में सीरिया में किसी के मारे जाने की खबर नहीं हैं. वहीं, रूस ने अमेरिका के मिसाइलों को मार गिराने की चेतावनी दी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here