बाबाओं को मंत्री बनाने पर शिवराज के खिलाफ हाई कोर्ट ने जारी किया ये नोटिस

0
153
High court issued notice to Shivraj Chauhan
High court issued notice to Shivraj Chauhan
Download Our Android App Online Hindi News

शिवराज सिंह सरकार का विरोध कर रहे बाबाओं को अचानक राज्यमंत्री का दर्जा दे दिया गया। यह मामला सीएम शिवराज सिंह के लिए परेशानी का सबब बन गया है। देश भर में इस मुद्दे पर शिवराज सरकार की निंदा की गई। अब हाईकोर्ट की इंदौर खंडपीठ ने मध्यप्रदेश सरकार को नोटिस जारी कर पूछा है कि उन्हें किस आधार पर यह दर्जा दिया। बता दें कि मप्र सरकार ने नर्मदानंद, हरिहरानंद, कम्प्यूटर बाबा, भय्यू महाराज और पं. योगेंद्र महंत को राज्यमंत्री का दर्जा दिया था। ये सभी संत सरकार द्वारा गठित विशेष समिति के सदस्य बनाए गए हैं।

High court issued notice to Shivraj Chauhan
High court issued notice to Shivraj Chauhan

इस निर्णय के खिलाफ हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई थी। याचिका में सरकार के कदम की संवैधानिक वैधता पर सवाल उठाए हैं। कहा है कि प्रदेश की जनता पर पहले से 90 हजार करोड़ का कर्जा है। पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देकर सरकार जनता पर कर का बोझ और बढ़ा रही है।

यह याचिका रामबहादुर वर्मा ने एडवोकेट गौतम गुप्ता के माध्यम से दायर की थी। इसमें कहा है कि पहले से मंत्री परिषद गठित होने के बावजूद पांच संतों को राज्यमंत्री का दर्जा दे दिया गया। इससे प्रदेश की जनता पर आर्थिक बोझ बढ़ेगा।

High court issued notice to Shivraj Chauhan
High court issued notice to Shivraj Chauhan

सर्वे के मुताबिक राज्य के हर नागरिक पर औसतन 14 हजार रुपए कर्जा है। संतों को राज्यमंत्री का दर्जा देने के साथ ही उन्हें भत्ते व अन्य सुविधाएं भी मिलने लगेंगी। इसका आर्थिक बोझ प्रदेश की जनता पर आएगा। सरकार ने यह भी स्पष्ट नहीं किया है कि राज्यमंत्री का दर्जा देने के लिए किस आधार पर चयन किया गया। जिन संतों को यह दर्जा दिया गया है वे कुछ दिन पहले तक सरकार के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here