योगी सांसद की गुंडागर्दी के आगे टूट गया मुस्लिम थानेदार कहा, “वर्दी का फर्ज नहीं बेच सकता….

0
50
Innocent UP Police
Innocent UP Police
Download Our Android App Online Hindi News

यूपी में बीजेपी की सरकार बनते ही उनकी गुंडागर्दी जिस कदर शुरू हो गई है उससे न केवल आम जनता बल्कि सरकारी कर्मी भी परेशान हो चले हैं. एक ओर उनका फर्ज है तो दूसरी ओर राज्य में योगी सरकार की गुंडागर्दी जिसके चलते हर कोई ये सोच रहा है कि आखिर करे तो क्या करे. ऐसा ही एक मामला हाल ही में यूपी के फर्रुखाबाद जिले में देखनें को मिला जहाँ जिले के दरोगा की बाइक को ओवरटेक करते समय यूपी के बाहुबली सांसद के बेटे का कुर्ता बाइक में फंस गया. जिससे चलती बाइक लहराकर गिर पड़ी. गनीमत रही कि कोई बड़ा हादसा नहीं हुआ, लेकिन यह देखकर दरोगा इस कदर गुस्सा हो गये कि बाइक से उतरकर उन्होंने सांसद पुत्र को सबक सिखाते हुए थप्पड़ जड़ दिया.

एसपी और बीजेपी के गुंडों के बीच हुई तीखी नोकझोंक

भाजपाई संसद के बेटे को थप्पड़ और वो भी योगी राज में..इस बात कि जानकारी जैसे ही राज्य में फैली तो कुछ ही देर में सांसद के घर के बाहर भाजपा कार्यकर्ताओं की भीड़ जमा हो गई. देखते ही देखते सैकड़ों भाजपाइयों ने जिले के थाने का घेराव कर पुलिस के खिलाफ प्रदर्शन भी शुरू कर दिया. इस दौरान एसपी और प्रदर्शनकारियों के बीच तीखी नोकझोंक भी हुई. बीजेपी के गुंडों द्वारा थाने पर इतना दवाव बनाया गया कि आखिरकार एसपी को थप्पड़ मारने वाले चौकी प्रभारी को लाइन हाजिर करना पड़ा. इतना ही नही दवाब को देखते हुए उल्टा सांसद पुत्र की तहरीर पर आरोपी दरोगा के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज की गई.

जानिए क्या था पूरा मामला?

दरअसल, बीते मंगलवार की दोपहर यूपी के फर्रुखाबाद शहर के भाजपा सांसद मुकेश राजपूत का बेटा अमित अपनी स्कूटी से मऊदरवाजा के रामपुर ढपरपुर में जा रहा था. जिस दौरान उसने मुस्लिम दरोगा मो. आसिफ की बाइक को ओवरटेक करने का प्रयास किया लेकिन अमित का कुर्ता दरोगा की बाइक के हैंडल में फंस गया और दरोगा की बाइक गिरने से उस पर बैठे दो अन्य लोग भी गिर पड़े.

बीजेपी कार्यकर्ताओं ने की दरोगा आसिफ को सस्पेंड करने की मांग

सांसद के बेटे की इस लापरवाही को देखते हुए दरोगा की उससे बहस हुई और इसी दौरान बताया जाता है कि दरोगा ने सांसद के पुत्र को थप्पड़ मार दिया. घटना के बाद अमित उस वक्त मौके से तो घर चले गये लेकिन ये पूरी जानकारी मिलते ही बीजेपी के समर्थक भारी संख्या में सांसद के घर के बाहर जमा हो गये. और बाद में थाने का घेराव कर हंगामा करते हुए दरोगा को सस्पेंड करने की मांग करने लगे.

सांसद की गुंडागर्दी देख थाने के दरोगा साहब इस कदर दुखी हुए कि उन्होंने एएसपी व सीओ को अपना इस्तीफा देते हुए इस घटना पर न केवल दुख व्यक्त किया बल्कि ये भी कहा कि “अब ऐसी परिस्थिति में मैं नौकरी नहीं कर पाऊंगा. सत्ता के आगे मेरा फर्ज कमजोर पड़ गया. अभी मैं थाना छोड़ रहा हूँ, लेकिन मैंने अपना जमीर नहीं बेचा है.” वाकई इस पूरी घटना ने एक बार फिर साबित कर दिया कि योगी राज में उनके नेता सत्ता के नशे में इस कदर अंधे हो चले है कि उन्हें अपने रोब के आगे हर कोई छोटा नजर आ रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here